Friday, 20 April 2018

समझ अप्नि अप्नि


le> viuh viuh

       lM+d ds nksuksa vksj yxs cksMsakZ dh viuh nqfu;k gS fudyks i<+rs tkvks Avc pyrs eSa tks i<+k tk;s tks le> esa vk; A  uke esa rks tjk ls gsjQsj ls D;k cu tkrk gS jk/kk jeu vf/kdrj j dk uhps dk vk/kk fgLlk cPps feVk gh nsrs gSaA ,d txg fy[kk Fkk dkxt fpdVkoks uok vc ge le>s u;k dkxt yxkvks u;s dkxt dks phdV dj nks ge us lM+d ls iksaNdj dbZ dkxt yxk fn;s irk ugha D;ksa dkxt yxokus dh dg jgk gS 'kk;n edku dks utj u yx tk;s cM+h lkQ lqFkjh nhokj gSA oks rks yM+us vk x;k fpdVkoks eryc fpidkoks]pyks cans dk uqdlku fd;k gS u;k  dkxt yxk nsrs gSa A rc rks MaMk gh ysdj vkx;k uok eryc ugha ]fudy ;gkWa  ls vktkrs gSa u tkus dgkWa dgkWa ls i<+uk tkus u fy[kuk A cksMZ i<+rs tk; vkSj ijs'kku fd vferkHk cPpu us lkM+h Hkh cspuk 'kq# dj fn;k gS vkSj fQj lkM+h dk lhesaV ls D;k okLrk cM+k dM+d ekaM yxkrh gksxh ;s fcukuh dEiuh ,l , Mh vkbZ okb vks ,u fcydqy Bhd lkfM+;ksa ds fy;s fcukuh lhesaV ij gkFk esa vferkHk cPpu lkM+h ugha edku dk ekWMy fy;s S vc ge edku okys gksrs rks lfn;ks i<+rs lkM+h dh ftruh nqdkusa mruh rks fdlh dh ugha ]lkM+h lkM+h dk 'kksj gS mlh dk tksj gS rks lkfM+;ks gh i<+saxsA
       vc dksBh ij fy[kk jgrk gS lko/kku ;gk¡ dqÙks gSa gk¡ Bhd gS lc cw<+s gh jgrs gksaxs ,d le; vkrk gS dqÙks leku gh gks tkrk gS fVfij fVfij lkeus cSBk pkSdhnkjh djrk jgrk gS vkSj tks lkeus Mkyks [kk ysrk gS rks ;gh rks fy[kk tk;sxkA
       vkxs c<+h rks fy[kk Fkk ds'k dkmaVj okg! xtc D;k cf<+;k ukbZ dh nqdku gSA cPpksa ds ds'k dVok fy;s tk;s ij vanj rks og , Vh ,e fudyk ds'k dks dS'k djus ds fy;s cSad cSysal rks cukuk gh iM+sxk A vc cnjh ukjk;.k ij dksbZ eupyk fcanh yxkdj mls canjh ukjk;.k cuk ns rks chch dh twrh rks mlh ds flj iM+sxh eupys ds flj ij rks iM+sxh ugha oks rks viuk dke djds fudy fy;k iryh xyh lsA vc ;g viuh le> esa ugha vk;k dksfB;ksa ds chp iryh xyh feyh dgk¡\
       'kkfgn fpfdu 'kkWi ;gk rktk pwts feyrs gSa mlds Åij D;ksa Hkktik us viuks vkdkvks dk QksVks lfgr cksMZ yxk;k dqN le> ugha vk;kA
       cksMZ rks cksMZ i<+us okys dh viuh le> gS vc ukel> i<+s tks fy[kus okyk D;k djsxkA
      

Wednesday, 18 April 2018

इसी जनम मैं मिल रहा है क्य

हर मनुष्य  के मन मैं सेवा भाव अवश्य उत्पन्न होता है  वह जब अपनी सेवा कर कर कर  ऊब जाता है  या  जब  ईश्वर  से अपनी  सेवा  और करवानी होती है तो  दान  पुण्य  मैं  लग  जाता  है कभी कभी विवशता भी होती है  अपना  शनीचर उतारने  के लिए  दान कर वह शनीचर  दुसरे के सर चढ़ाना   है  इसके लिए मंदिर या कोई भिखारी ढूँढा  जाता है  पितर शांत करने हैं भूखों को भोजन अन्न वस्त्र दान करने होते हैं ऐसी अब  मैं बढ़ते आधारहीन  माता पिता भी है पहले बच्चे अनाथ होते थे अब माँ बाप अनाथ होते हैं ऐसे ही दान दाताओं से चल रहे  वृद्धाश्रम मे  मैं   कभी  श्रम कर आती हूँ  धार्मिक पुस्तकें चाय चीनी  साबुन  आदि छोटी जरूरी वस्तुएं दे आती हूँ  जब कुछ की आँखों   दान की वस्तुएं लेने मैं नमी छा जाती है क्योंकि कभी उन्होंने भी ददन किये थे क्या वे ही दान उन्हें वापस मिल रहे हैं 

कुच भि बोलो



 यहांखड़कसिंह के खड़कने से खड़कती हैं खिड़कियॉं, खिड़कियॉं खड़कने का बहाना चाहिये खड़कने का समय हो न हो खड़काना चाहिये कहीं  शांति अच्छी लगती है शांति तो सन्नाटा कहलाता है । सन्नाटा श्मशान में होता है ।  


Monday, 16 April 2018

खुशी


[kq”kh

D;wfiMl ikWbtaM ,jks uked fdrkc esa ekfj;k jkfcUlu [kq”kh dk oSKkfud fo”ys”k.k djrs gq, fy[krh gSa tc Lo;a dh [kq”kh ds fy;s dqN fd;k tkrk gS rks Mksikekbu gkeksZu fudyrk gS tks ,d rhoz bPNk iSnk djrk gS exj larqf’V ugha nsrk A ysfdu tc ge nwljs ds fy;s dqN lksprs gSa rc vkWDlksVksflu gkeksZu fudyrk gS ;g balku esa balkfu;r txkrk gS fuLokFkhZ n;kyq vkSj izse iw.kZ cukrk gS ;g gkeksZu lgh ek=k esa u fudys rks balku vkRedsafnzr vkSj volkn dh vksj tkrk gSA vxj ge vkxs c<+uk pkgrs gSa rks gesa nsuk lh[kuk gksxk A nsus ls dHkh dqN ?kVrk ugha gS nsus ls c<+rk gS t:jr ean dks vki nsdj tks [kq”kh izkIr djrs gSa og vius fy;s djds ugha feyrh gS A

मर गये तो क्य


ej x;s rks D;k


Hkkjr esa MkWDVj dh ykijokgh ls ejht ejrs jgrs gSa dqN xqLlk;s yksx MkWDVj ds ?kj uflZxgkse ij geyk dj nsrs gSa ij mlls gksrk tkrk D;k gS\ gtkj nks gtkj fey tkrs gS ftls geykoj cVksj ys tkrs gSa vlyh gdnkj rks ej pqdk gksrk gs mls D;k feyk ij fdLer gks rks Hkkjrh; ewy ds vesfjdk esa cls gq, MkWDVj dq.kky lkgk dh ftlds nksuksa gkFkksa esa yM~Mw gS MkWŒ dq.kky lkgk dh iRuh 1998 esa dksydkrk ds izfrf"Br vLirky esa bykt ds nkSjku cjrh xbZ ykijokgh ds dkj.k ekSr gks xbZ FkhA ykijokgh ds ekeys esa Hkkjr esa jk"Vªh; miHkksDrk fookn fuokj.k vk;ksx us vkns'k fn;k gS fd eqvkots dh jkf'k efgyk ds bykt esa yxs rhu fpfdRldksa vkSj ml vLirky dks nsuh gksxh tgk¡ mls Hkjrh djk;k x;k FkkA
     vk;ksx us eqvkots dh jkf'k lqizhe dksVZ ds vkns'k ij fu/kkZfjr dh gS Hkkjrh; ewy ds vesfjdh MkWDVj lkgk dh iRuh vuqjk/kk  (cky euksfoKku dh izoDrk Fkha ekpZ 1998 esa Nqfê;ksa ij vius ewy fuokl dksydkrk vkbZ FkhA 25 vizSy dks mudh Ropk ij dqN pdrs mHkjs bl ij mUgsa MkWŒ lqdqekj eq[kthZ ls laidZ fd;kA eq[kthZ us fcuk dksbZ nok fy[ks mUgsa vkjke djus dh lykg nhA
     mudh e`R;q gks xbZ MkWŒ dq.kky lkgk dks feyasxs 1-73 djksM+ #i;s lkFkh gh psgjs ij mnklh dk eq[kkSVk p<+k yk;saxs ugZ iRuh vanj gh vanj yM~Mw QkSM+rs gq,



MkWΠ'kf'k xks;y
fpnEcjk
3@28 ,@2 tokgj uxj jksM] [kankjh] vkxjk&282002


Sunday, 15 April 2018

तूफान और नन्हा पोधा

अभी  आठ तारिख को आगरा जनपद मैं भयंकर तूफ़ान आया जानमाल का खेती का  बहुत नुक्सान हुआ बड़े बड़े पेड़ धराशायी  गए मैं जिस अपार्टमेन्ट  मैं रहती हूँ  उसकी दीवार  गिर गई सड़कों पर उखड़े पेड़ बिछ  गए  पर मेरी बालकनी की दीवार पर रखा चार इंच का छोटा सा  करुआ जिसमे  करुआकॉठ के बाद मैंने एक पौधा लगा दिया था अकेला रखा रहा उसे कुछ नहीं हुआ मैं सुबह बालकनी मैं देखने पहुंची कि  कितने गमले लुढ़क कर टूटे   गमले  जो जमीन पर रखे थे टेढ़े  हो गए पर पता  दीवार पर रखा वह छोटा सा  गमला उस तूफ़ान को सहजता से झेल गया  वास्तव  यह कहानी थी   दिए की और   तूफ़ान  की 

Friday, 13 April 2018

bhookh se maut

इस धर्म और संस्कृति के  यदि किसी महानगर  मैं भूख  से मोत होती है केवल उस  व्यक्ति की  चल फिर नहीं सकता  इतना अशक्त है कि घर से बाहर  नहीं  निकल सकता  मैं आदिवासी या पिछड़े इलाके  लिए  कह  हूँ जहाँ गरीबी इतनी है कि एक समय खाना क्या कुछ भी  नहीं है परिस्थितियां  विषम भी हो है हम भरे पैट वाले नहीं जान सकते पर  मैं महानगर मैं भूख से मौत किसी अशक्त बीमार और यदि  अकेला है तब  ही   है
मैं एक महानगर की ही बता रही हूँ जहाँ एक व्यक्ति की भूख से मोत शीर्षक से    समाचार पत्र भर गए प्रशासन के लिए और सरकार  को घरने के लिए विपक्ष जुट गया।
मैं हैरान थी कि  यदि विपक्ष को मालूम थी कि भूख से मर रहा है कोई  मानवीयता के नाते नाते क्या  उनकी कोई जिम्मेदारी नहीं बनती है किसी  पडोसी का धर्म नहीं था

 या वह व्यक्ति इतना निकम्मा था कि वह कुछ     काम  ही  नहीं करना चाहता था
हो सकता है कि उसे अपने आदमी होने  गर्व हो और चाहे मर जाये  काम नहीं करेगा या  वह व्यक्ति जो है  राम   ने पैदा किया है तो दाना भी वही डालेगा
यह इस लिए लिखना पड़ रहा  क्योकि हर शहर मैं लंगर जरूर होते है वैसे जिस व्यक्ति की  मोत से   पत्र भरे उसके घर से कुछ दूर पर मंदिर है जहाँ प्रतिदिन किसी